Bala Devi ने बनाया रिकॉर्ड :1st Indian Woman Footballer बनी रच दिया इतिहास

Bala Devi ने बनाया रिकॉर्ड 1st Indian Woman Footballer बनी रच दिया इतिहास

 

Bala Devi  ने रच दिया इतिहास बाला देवी भारत के सबसे बेस्ट 1st Indian Woman Footballer बन चुकी है. क्योंकि यूरोप की लीग में खेलते हुए बाला देवी ने बहुत ही बड़ा मुकाम हासिल कर लिया है उन्होंने एक नया रिकॉर्ड बना दिया है |

Bala Devi ने बनाया रिकॉर्ड
Bala Devi ने बनाया रिकॉर्ड :1st Indian Woman Footballer बनी रच दिया इतिहास

 

भारत की सबसे पहली महिला बन चुकी हैं Bala Devi. क्योंकि इन्होंने एक नया इतिहास रच दिया है बाला देवी प्रोफेशनल फुटबॉल लीग में गोल दागने वाली पहली भारतीय महिला फुटबॉलर बन गई है. इस प्रकार से उन्होंने भारत के लिए जीत हासिल कर ली है और खुद को 1st Indian Woman Footballer बना लिया है रेंजर  एफसी की तरफ से खेलते हुए बाला देवी ने मदर बेल एफसी के खिलाफ यूरोप की प्रो लीग में अपने करियर का पहला गोल किया है, इस प्रकार उन्होंने एक नया रिकॉर्ड और खुद को एक अच्छा फुटबॉल खिलाड़ी साबित कर दिया है |

 

सबसे बड़ी चौंकाने वाली बात तो यह है कि बाला देवी का यह गोल मैच के 85 बे  मिनट में आया बाला देवी ने अपनी काबिलियत दिखा दी इस मैच में क्योंकि बाला देवी ने तेजी से गेंद पर कब्जा करके विरोधी टीम की गोलकीपर को  चकाकर स्कोर सीट में अपना नाम लिखवाया इस मैच के मुकाबले में रेंजर्स ऐप्सी ने 9-0 से अंतर से मदद एफसी को मात दी , एक अच्छी फुटबॉलर खिलाड़ी का हुनर Bala Devi के अंदर है उन्होंने इस मैच के दौरान यह साबित कर दिया कि कोई भी महिला किसी से कम नहीं है |

 

Bala devi ने रचा पहले भी इतिहास

बाला देवी प्रोफेशनल कॉन्ट्रैक्ट हासिल करने वाली 1st Indian Woman बनी थी. इसी बाला देवी ने रेंजर्स के साथ 18 महीने का कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था |

2005 में अंडर 17 टीम के साथ बाला देवी ने भारतीय महिला फुटबॉल में डेब्यू किया था.

इसके बाद फिर से बाला देवी ने 2006 में वह अंडर-19 टीम के लिए खेली. 2008 से ही बाला देवी भारतीय सीनियर महिला टीम का हिस्सा है. भारतीय महिला टीम के लिए 58 मुकाबले खेलते हुए बाला देवी ने अब तक 52 गोल जड़े हैं तो आप इस प्रकार से अनुमान लगा सकते हैं कि बाला देवी ने कितनी मेहनत की है तभी जाकर इतनी बड़ी जीत हासिल की है

कोई भी व्यक्ति हो या फिर महिला हो  अचानक से उनकी कोई बड़ी जीत हो जाती है तो समझ लेना कि इस जीत से पहले उस व्यक्ति ने बहुत मेहनत की है लेकिन जनता बस उस जीत को देखती है उसके पीछे जो मेहनत की है उसे नहीं देखती

बाला देवी का एक और  कमाल-

पिछले वर्ष 2019 में बाला देवी काफी चर्चा में रही थी इंडियन वूमेन लीग में मणिपुर पुलिस की ओर से खेलते हुए बाला देवी ने सिर्फ सात मैच में 26 गोल किए. शानदार सीजन जाने के बाद ही बाला देवी को स्कॉटलैंड में खेलने का मौका मिला. साल दो 2014  मैं बाला देवी को AIFF  वूमेन प्लेयर ऑफ द ईयर के खिताब से भी   नवाजा गया था

 

आप लोग सरल भाषा में यह समझ सकते हैं कि बाला देवी की जो यह जीत हासिल होती है जो भी कारनामा करती है तो उसके पीछे उनकी मेहनत है जो कि उन्होंने बहुत सालों से की है, कोई भी जीत इतनी आसानी से नहीं मिलती उसके पीछे  दिन-रात की मेहनत होती है |

 

एक बार फिर बाला देवी ने जिस प्रकार से रिकॉर्ड बनाया है उससे यही साबित किया है कि महिलाएं भी अपने देश का नाम रोशन कर सकती हैं और हमेशा से करती आई है पहले भी बहुत महिलाओं ने भारत देश के लिए रिकॉर्ड बनाया है |

Farmers Protest Breaking News {Bharat Band } 1988 में किसानों का आंदोलन

Youtube Link Videos