Farmers Protest 35 Day :- फिर होगी किसान और सरकार के बीच बातचीत कृषि कानून वापस लेने और MSP की गारंटी पर हो चर्चा किसानों ने कहा

Farmers Protest 35 Day :- फिर होगी किसान और सरकार के बीच बातचीत कृषि कानून वापस लेने और MSP  की गारंटी पर हो चर्चा किसानों ने कहा

Farmers Protest 35 Day :-

किसान आंदोलन लगातार चल रहा है और किसी भी तरह रुकने का नाम नहीं ले रहा है farmers Protest  का आज 35 दिन है किसान आंदोलन के दौरान सरकार से लगभग पिया सातवें दौर की बैठक बताई जा रही है लेकिन अब तक किसी प्रकार से समाधान नहीं हुआ है आज फिर एक बार सरकार और किसानों के बीच बातचीत होने जा रही है |

Farmers Protest 35 Day :- फिर होगी किसान और सरकार के बीच बातचीत
Farmers Protest 35 Day :- फिर होगी किसान और सरकार के बीच बातचीत कृषि कानून वापस लेने और MSP  की गारंटी पर हो चर्चा किसानों ने कहा

विशेष जानकारी-

1- यहां आज सातवें दौर की बैठक है |

2- कृषि कन्नू को निरस्त करने के लिए हो रहा है आंदोलन |

3- किसान और सरकार के बीच नहीं हो रहा समाधान

नई दिल्ली:-

Farmers Protest  को लेकर आज 35 दिन पूरे हो चुके हैं लेकिन किसी भी प्रकार से कोई भी समाधान नहीं हो पा रहा है सरकार और किसानों के बीच और किसान इसी कारण से लगातार अपना आंदोलन जारी रखे हैं |

आज फिर एक बार बुधवार को सरकार और किसानों के बीच बातचीत होने जा रही है वहीं प्रदर्शनकारी किसान संगठनों ने कहा कि चर्चा की एवं कृषि कानूनों को नष्ट करने के तौर-तरीके एवं न्यूनतम समर्थन मूल्य की कानूनी गारंटी देने पर ही होगी |

अर्थात किसानों ने या सीधा सीधा बोल दिया है कि जो भी बातचीत होगी वह सिर्फ किसानों के समर्थन में होगी इसके अलावा कोई भी बातचीत नहीं होगी केंद्र और किसानों के बीच जब छठे दौर की वार्ता हुई थी तो 1 दिन पहले केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गोयल ने वरिष्ठ भाजपा नेता एवं गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी |

और इस वार्ता के दौरान सिर्फ यही बातें हुई थी कि बुधवार को किसानों के साथ होने वाली वार्ता में सरकार का क्या रुख रहेगा और यहां सच में चौंकाने वाली न्यूज़ है कि आखिरकार सरकार और किसानों के बीच कितनी बार बार ता होने के बावजूद भी किसी भी प्रकार से कोई भी समाधान क्यों नहीं हो पा रहा है |

किसानों ने यह बात सीधा सीधा बोल दिया है कि जब तक हमारे यहां जो किसी कानून बनाए गए हैं उन्हें जब तक सरकार वापस नहीं लेती तब तक यह आंदोलन लगातार चलता रहेगा और यहां किसी भी प्रकार से रोकेगा नहीं |

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री गोयल और वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री ओमप्रकाश किसानों के साथ वार्ता में केंद्र का प्रतिनिधित्व करते रहे हैं और उन्होंने सोमवार के दिन कहा था कि उन्हें गतिरोध के जल्द दूर होने की उम्मीद दिख रही है,

और केंद्र के द्वारा सोमवार को आंदोलन कर रहे लगभग 40 किसान संगठनों को सभी प्रश्न गीतों का समाधान ढूंढने के लिए 30 दिसंबर को बातचीत करने के लिए आमंत्रित किया है |

लेकिन वही किसानों  ने केंद्र को लिखे गए पत्र में यह कहा कि कृषि कानूनों को निरस्त करने के तौर-तरीकों एवं न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की गारंटी देने का मुद्दा का हिस्सा होना चाहिए अर्थात किसानों ने सीधा बोल दिया कि जो भी वार्तालाप होगी वह हमारे समर्थन में होना चाहिए |

अब तक किसानों और सरकार के बीच बहुत बार बातचीत हो चुकी है

लेकिन किसी भी प्रकार से कोई भी समाधान नहीं हुआ है बातचीत में पिछले दौर की वार्ता 5 दिसंबर को हुई थी छठे दौर की वार्ता 9 दिसंबर को हुई थी लेकिन इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह और किसान संगठनों के कुछ नेताओं के बीच अनौपचारिक बैठक में कोई सफलता न मिलने पर इसे रद्द कर दिया गया था

अबकी बार 30 दिसंबर को सरकार और किसान संगठनों के बीच वार्तालाप होने जा रही है देखते हैं इस बार तालाब का निर्णय क्या निकल कर आता है लेकिन किसानों ने तो सीधा बोल दिया है कि जो भी वार्तालाप होगी उस वार्तालाप के दौरान हमारे कृषि कानूनों के बारे में ही सोचा जाएगा |

ऐसे ही News  पाने के लिए लगातार हमारे साथ जुड़े रहिएगा हमें सोशल मीडिया के माध्यम से Facebook  और Twitter  पर  फॉलो कर लो ताकि हम लगातार आपके लिए ऐसी अपडेट लाते रहे देश और दुनिया के

Farmers Protest 35 Day,Farmers Protest 35 Day,Farmers Protest 35 Day,Farmers Protest 35 Day

Other Big Latest News –PM मोदी ने AMU के कार्यक्रम में लिया भाग प्रधानमंत्री संबोधन की Top–10 जानकारी

Big Update –KalyugTime